लड़की के जले हुए पैर पर डोक्टर ने लगा दी मछली की खाल और फिर हुआ कमाल

आज, पश्चिमी चिकित्सा बहुत सामान्य है, और दुर्भाग्य से, प्राकृतिक और वैकल्पिक तरीकों को कभी-कभी अनदेखी या मजाक की नजरो से देखा जाता है। आजकल के आधुनिक लोग जड़ी-बूटियों के बजाय गोलियां पसंद करते हैं और केवल पश्चिमी चिकित्सा के चिकित्सक के पास जाना पसन्द करते है बजाए , हर्बल या वैकल्पिक चिकित्सा के चिकित्सकों के पास । लेकिन खुले दिमाग वाले लोग वैकल्पिक उपचार की तलाश करते हैं, जो कम दर्दनाक हो सकता है और बहुत प्रभावी भी हो सकता है।

ऐसा ही एक महिला है मारिया इनस कैन्डिडो दा सिल्वा, ब्राज़ील के रसस से है। एक दिन उनके कार्यस्थल में एक गैस कनस्तर में विस्फोट हो गया और उसकी बाहों, गर्दन और चेहरे और कई अंग गंभीर तरीके से जल गए पर उन्होने किसी इंग्लिश डोक्टर के पास जाने के बजाए एक आयुर्वेदिक डोक्टर के पास जाना बहतर समझा |

हलाकि शुरु में उन्हें थोड़ी जिझक हुई पर डोक्टर ने उन्हें पूरा तरीका आराम से समझाया और उसके बाद उनका इलाज शुरु किया , पर पट्टियों के बदले उन्होने मछली की खाल का इस्तमाल किया डोक्टेरो का कहना है की इस तरीके से मरीज को बहुत ही कम दर्द सहना पड़ता है और इससे गह्व भी बहुत जल्दी भर जाता है | इस इलाज में वो एक खास तरह की तिलापिया मछली की खाल का उपयोग करते है जिसमे काफी तरह के प्रोटीन और कई तरह की खुबिया पाई जाती है |

70 वी मंजिल से लटक कर बना रहा था वीडियो और खुद ही रिकॉर्ड कर लिया अपनी मौत का वीडियो

मारिया के उपचार का मुख्य भाग 11 दिनों तक चला जो बहुत सफल रहा और उनका कहना है की उनके लिए ये सब बहुत ही अजीब था उन्हें ऐसा लगा मानो वो किसी फिल्म में है और वो भी किसी अजीब दुनिया में |

अब उनका शारीर 97 % तक सामान्य हो चूका है और जल्द ही पूर्ण तरीके से सामान्य हो जायेगा , आयुर्वेदिक डोक्टेर्स का कहना है की इस तरह का इलाज इंग्लिश तरीको से बहुत सस्ता होता है और बहुत कारगर भी है | इस घटना के बाद से पूरी दुनिया में आयुर्वेदिक और हर्बल तरीको से इलाज करवाने के प्रति लोगो का विश्वास बढ़ा है |

भूख से मरने वाली थी ये लड़की पर आज है हसीन बॉडी बिल्डर

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *